Thursday, September 30, 2021

Meet Sakshi, who proved that Persistence is the key to success : Priyanka Kaushik

Nineteen-year-old Sakshi, an edu-leader of Batch 4, is going to complete her fellowship this month. She hails from Farda village in Jamalpur block of Munger district, Bihar. Farda is situated on the banks of river Ganga. It is one of those villages that see a rise in water level very early in the rainy season, due to its proximity to the river. This year, the village was submerged in water for 45 days! 

Sakshi got to know about the fellowship from her mother, Partibha Bharti, who is working at the JEEViKA office in Munger. “The Government of Bihar, through the Bihar Rural Livelihoods Promotion Society, an autonomous body under the Department of Rural Development, is spearheading the World Bank-aided Bihar Rural Livelihoods Projects, locally known as JEEViKA, with an objective of social and economic empowerment of the rural poor.” JEEViKA had partnered with i-Saksham in 2019 to implement this program at grassroot level.

During her fellowship, Sakshi was teaching in Madhya Vidyalaya Banktola, Farda. Sudarshan, the headmaster of the school, welcomed her with open arms, as he was so happy to have someone teach in his school and implement new pedagogy techniques. He gave all his support during her initial days and continues to do so till today.

When the headmaster had joined the school in 2016, there was no infrastructure, the walls were dirty and only one room was used as both the classroom and the headmaster’s office. Though there were four classrooms in the school, the other rooms were locked permanently and used by community members whenever they wanted, such as during elections or polio campaigns, and they could also be accessed by government officials. The previous headmaster had been tied and beaten up by the community persons; he managed to get a transfer for himself. Nobody wanted to serve in this community and particularly in this school. Two teachers were recruited along with the headmaster, but both quit within a week because of the geographical location and the community’s orthodox mindset. The same community is spending lakhs during Durga pooja and Saraswati pooja and they don’t have a penny to support the school where their students study – this is the harsh reality.

When she started teaching, Sakshi also faced many issues. She realized that the school lacked basic infrastructure; for example, there were no floor mats, windows or doors in the classrooms. Students were not used to wearing school uniforms and shoes. Fortunately, her regular attempts of persuading the students encouraged them to start wearing uniforms and shoes (those who owned them). A student of class 3, Khushi, shared that when she was asked to wear a school dress for the first time, she had to convince her mother that as Sonam and Anshupriya, her best friends, and other girls of the class had started wearing school uniforms, she had to wear one too. She told her mother that Sakshi Didi had said that school uniforms make students beautiful and she wants to wear it too. 

Now, the school walls have also been painted, the classroom is equipped with basic infrastructure, electricity connection has been installed in the school building, print-rich classes are being held and a hanging library has been made in the classroom. Sakshi also introduced innovative teaching-learning processes in the school, for example, storytelling, phonics, word-mapping and reading aloud. Moreover, because of Sakshi’s regular community visits, there has been a significant increase in the number of enrolled students. The attendance rate of the students also increased by 50% in the academic year 2019, though since the appearance of Covid-19, this level has gone down.

Sakshi using a 3-D chart of Hindi Varnamala to teach her students

In the difficult times of Covid-19, Sakshi along with Rajmani (another edu-leader) conducted Parent-Teacher Meetings (PTMs) in the community. She prepared her students to share their learning with their parents through activities like reading aloud and storytelling. In the first PTM, very few parents turned up. For the next PTM, she made a plan. She went to students’ homes and the fields to meet their parents and convince them to participate in the upcoming PTM. It worked and many parents turned up for the next PTM! It was all due to Sakshi’s willpower to bring the parents to school. She shared how she introduced and elaborated the word PTM to both students and parents, as the concept was completely new to them. This helped them understand the importance of PTM, which perhaps convinced them to come for the meeting. 

PTM is an opportunity for parents to know their child better. Sharing the daily experiences and observations of children with their parents can help both parents and teachers plan, prepare and execute ways to improve learning outcomes of children. She along with her fellow edu-leader Rajmani discussed and shared their overall observations of children with their parents, which included aspects like his/her behaviors, manners, habits, attitude, learning styles, relation to self and society, and so on. 

The teaching style that Sakshi followed comprises the use of teaching and learning materials (TLMs), worksheets, crafts, and the use of the library. She also used daily classroom objects like footwear to conduct realia -- a technique using real objects around you to teach concepts. Teaching through realia reinforces language skills as well visual and kinesthetic learning in all age groups.

Some ill-mannered people would pass comments and tease Sakshi during her initial days. When things got worse and started affecting Sakshi mentally, she shared the incident with her mentor Prince. He motivated her to be courageous and confident. His push and encouragement helped her overcome her fear of these people. At that time, she was not comfortable sharing these things with her parents. 

When the headmaster of the school, Sudarshan, got to know about this, he took charge and investigated the matter. Soon, everything was sorted out by his intervention. 

Sakshi also faced a lot of criticism from the people in her community. They would make comments like why does she keep wandering all day, what changes can she bring to society all by herself? However, Sakshi ignored these comments and carried on with her work. 

Now Sakshi is encouraging new edu-leaders to become more resilient and courageous and to give their best during the fellowship. She shared how there was a day when she cried because she did not want to teach in that school or visit that community; but her consistent efforts and support from the team made it possible for her to overcome this and change her perspective. Now, she just wants to share all the knowledge she has. 

Thanks to her efforts, there was a sustainable impact on children, parents and the school stakeholders. There is more discipline in the school now and the children have started wearing uniforms regularly. The parents have also started showing more interest in their children’s learning outcomes. 

Sakshi is more confident now and is ready to go anywhere in the community all by herself. She had never stepped outside her village before this. She is grateful to i-Saksham for all the training she has received for becoming who she is today – a great teacher. She feels she is perfectly equipped to become a teacher at such a young age. 

Sakshi (extreme right) participating in a Village Organisation (VO) meeting with its members

Currently, she is in the first year of graduation at Munger University. She wants to become a bank manager in the future. She joined the i-Saksham team in July this year. Because of i-Saksham, she is getting help in English communication and goal setting for her studies.  

फ़ेलोशिप का आठवां बैच गया जिले में शुरू हुआ : सोहानी परवीन

फ़ेलोशिप का आठवां बैच

गया जिले में मोबिलाइजेशन सितम्बर माह में शुरू हुआ था। सितम्बर के अंतिम सप्ताह में ही जिले के ग्रामीण क्षेत्रों से एडु-लीडर्स को चुना गया। जिसमें 80% एडु-लीडर्स पिछड़े क्षेत्रों से हैं। ग्रामीण जनों से जानने पर पता चला कि वहाँ के लोग अपने बच्चों को शिक्षित तो करना चाहते है, पर शिक्षा का स्तर बहुत अच्छा नहीं पाते हैं। हमारे नए एडु-लीडर्स जिन क्षेत्रों से आते हैं, उनके नाम कुछ इस प्रकार हैं– वाजितपुर, सैफगंज, चौगाई, साँवकला, झरी आदि।

बैच 8 की फ़ेलोशिप में कुल 17 युवा लड़कियों को चुना गया, और एक युवक भी चुना गया है। एडू-लीडर्स के साथ 5 दिनों (17 सितम्बर से 1अक्टूबर तक) का इंडक्शन हुआ जिसमें अनेकों गतिविधिओं के माध्यम से प्रशिक्षण दिया गया।

एडु-लीडर का कहना: 

इस प्रकार का मौका मुझे पहली बार मिला है। हमारे यहाँ पर, लड़कियों को घर से बाहर जाने देने के मौके ना के बराबर ही होते हैं। मै पाँच दिनों तक घर के बाहर रहकर ट्रेनिंग कर रही हूँ, यह मेरे लिए बहुत बड़ी बात है। 

इन पाँच दिनों में मैं अपनी बातों को खुलकर टीम के लोगो के सामने रख पायी। यहाँ आकर एक-दूसरे को जानने का मौका मिला। मेरे साथियों की बातों से मुझे प्रेरणा मिली है। मेरे अन्दर एक नयी उम्माद जग पायी, कि अभी देर नहीं हुई है, मैं अब भी कुछ कर सकती हूँ। 

Wednesday, September 29, 2021

एडु-लीडर के विद्यालय का अनुभव: सीमा देवी

27 सितम्बर, दिन सोमवार को मैं हर रोज के प्रति आज भी अपने काम को समय से निपटाकर अपने विद्यालय में पहुँची, तो वहाँ पर देखा कि सभी बच्चे आपस में मिल-जुल कर खेल रहे थे और दीदी लोग आपस में बातें कर रही थी।

फिर इतनें में प्रार्थना कि घंटी बजी तो सभी बच्चे प्रार्थना के लिए शामिल हो गए, फिर उसके बाद प्रार्थना समाप्त होने पर सभी बच्चे अपने-अपने क्लास- रूम में अपने स्थान पर बैठ गए। मैं दीदी लोग से मिलने ऑफिस में गयी, थोड़ी बात की फिर अपने क्लास-रुम में गई तो सभी बच्चे अपने स्थान से ही खड़े होकर एक साथ मुझको विश करने लगे। मुझे  यह देखकर मन ही मन बहुत खुशी हुई। क्योंकि मुझे पहले बहुत घबराहट हो रही थी, बच्चे समझेंगे या फिर नहीं समझेंगे? इस बात को लेकर मुझे बहुत चिंता होती रहती थी ।

लेकिन मुझे इस बात का पता भी नहीं चला और बच्चे इतनी जल्दी सीख भी गए । इस बात को लेकर मुझे बहुत अच्छा महसूस हो रहा है कि बच्चे हो तो ऐसे।

जो सिखाया वो तुरंत सीख लिया।  उसके बाद एक छोटा सा बाल-गीत से शुरूआत किए, तो सभी बच्चे खुशी पूर्वक एक साथ मिलकर बाल-गीत किये और फिर उनके परिवार में कितने सदस्य है, एवं कौन-कौन हैं उनके बारे में जानकारी दिये।

इसपर मुझे बहुत खुशी हुई कि बच्चे कितने बुद्धिमान होते हैं जो कि एक से दो बार बताते ही चीजों को समझने लगते है। फिर उसके बाद हम एक बाल-गीत करवाए , तो सभी बच्चे बहुत अच्छे तरीके से किये और फिर “न” अक्षर से पाँच शब्द पूछे तो वो भी बताये। फिर बच्चो ने बताया कि “न” अक्षर से शुरू होने वाला किसका-किसका नाम है।

फिर उसके बाद “न” ही अक्षर से और शब्द लिखने का होमवर्क देकर और सर से मिलकर घर चले आए। इस प्रकार  बच्चों के साथ कब समय बीत गया, पता ही नहीं चला।

Thursday, September 23, 2021

कोविड का दूसरा टीका और मैं : अमर

बात पिछले सप्ताह की है , मैं रोज की तरह विद्यालय में बच्चों के साथ गणित के सवाल हल कर रहा था। दिन के 11 बज रहे थे, तभी मेरे फ़ोन पर मेरे सीनियर शिक्षक नवीन जी का फोन आया। उन्होंने मुझे बताया कि गाँव के ही आंगनवाड़ी केंद्र पर कोरोना का दूसरा टीका दिया जा रहा है, मैं लेने आया हूँ। आप भी आ जाइये, अभी भीड़ नहीं है।

मैंने कहाँ ठीक है, आते है । मैंने अपने बैग में देखा तो पाया, मेरे पास आधार कार्ड की कोई कॉपी नहीं है। फिर मैंने बच्चो से पूछा, गाँव में कोई साइबर कैफे/कोई दुकान है, जहाँ कंप्यूटर से प्रिंट देता है?

तभी प्रभारी की बेटी ने मुझे याद दिलाया कि विद्यालय में ही कंप्यूटर और प्रिंटर है। मैं विद्यालय से अपने आधार की कॉपी निकाल कर प्रभारी की बाइक से कोविड सेंटर पर गया जो महज 500 मीटर दूर थी। जब मैं सेंटर पर गया तो पाया 20 -25 लोग आये है। मैंने अपना आधार कार्ड जमा किया और उन्होंने रजिस्टर मेन्टेन किया।

मुझे बताया गया कि मेरे आने से 10 लोग पूरे हो गए है बाकि के लोग आधार प्रिंट करवाने गए इसलिए अब 10 लोग हो गए है तो इंजेक्शन दिया जा सकता है। प्रक्रिया प्रारंभ हुई तो पता चला कि जो ग्रामीण कोविड का दूसरा डोज लेने आये हैं, "उनका तो कोई रजिस्ट्रेशन ही नहीं है वेबसाइट पर"

कंप्यूटर ओपरेटर नया था, मुझे लगा मदद कर दूँ ताकि जल्दी इंजेक्शन ले कर विद्यालय जा सकूँ। मैंने फ़ोन से ही लोगो का देखना शुरू किया तो पाया कि किसी भी ग्रामीण का रजिस्ट्रेशन नहीं हुआ है। सभी ग्रामीण गुस्से से आग–बबूला हो गए क्योंकी स्वास्थ्य विभाग की टीम एक तरफ बोल रही थी कि जिनका दूसरा डोज शो करेगा सिर्फ उसे ही हम इंजेक्शन देंगे।

ग्रामीण में से एक बुजुर्ग आदमी बोले, "अगर हमलोगों को सुई नहीं लगेगी तो किसी को भी सुई लेने नहीं देंगे यानि अब मेरा भी पत्ता कट हो गया"।

मैंने जमुई सदर फ़ोन किया तो उन्होंने बताया ऐसी स्थिति में दूसरा डोज दिया जा सकता है स्पॉट रजिस्ट्रेशन का उपयोग करके। मैंने कमरे में जा कर स्वास्थ्य विभाग की टीम को बताया तो उन्होंने बोला , सर ऐसा नहीं कर सकते क्योकि हमें इसकी कोई ट्रेनिंग नहीं मिली है और अभी सोनो के सभी पदाधिकारी बैठक में है आप बाहर  में किसी को मत बताइयेगा, नहीं तो मेरी नौकरी चली जाएगी।

मैंने अपने विद्यालय प्रभारी को सारी  चीजे बताई और मैं पास के दूसरे सेंटर  पर जा कर कोविड का दूसरा डोज ले लिया और वापस विद्यालय आ रहा था अब लगभग 40-50 लोग जमा हो चुके थे जो स्वास्थ्य विभाग के लोगो को घेरे हुए थे और समय भी 3 बज चुके थे। मुझे आता देख स्वास्थ्य विभाग का कंप्यूटर ओपरेटर मुझे रोका और बोला सर मुझ से नहीं पायेगा और ये लोग जाने नहीं देंगें, आप ही कुछ कीजिए।

मैंने पूछा ,आपने सोनो बात किया है?

तो उन्होंने बताया आप जो प्रोसेस जमुई से पूछे थे वही तरीका बताया लेकिन मुझे नहीं आता क्योकि मैं एग्रीकल्चर डिपार्टमेंट से हूँ। मैंने बोला, देखिये इसके बारे में मुझे कुछ आईडिया नहीं है लेकिन मैं देखता हूँ, क्या कर सकता हूँ।

मुझे नहीं पता!

लेकिन जैसे ही उन्होंने मुझे लैपटॉप दिया, ग्रामीण लोग बोलने लगे अब अमर जी बैठ गए है तो हमलोगों को टीका लग जाएगा। ऐसी बातें सुन कर मेरे अन्दर से एक आत्मविश्वास झलका, साथ ही डर शायद नहीं कर पाऊं। 10-15 मिनट मुझे उनके प्रोसेस को समझने में लगा और 10 आधार कार्ड ले कर पहला रजिस्ट्रेशन किया। जिस ग्रामीण का रजिस्ट्रेशन किया, उसके उसके मोबाइल में मेसेज आया और वो सभी बोलने लगे, आ गया मेसेज। पिछली बार तो टीका दिया और कोई मेसेज नहीं आया। अब सबका हो जायेगा सभी नंबर में लग जाओ और आधार कार्ड जमा कर दो। इस प्रकार मैं शाम के 6 बजे तक सेंटर पर ही रहा और  सभी ग्रामीण का रजिस्ट्रेशन करा कर उन्हें दूसरी डोज इंजेक्शन दिलवाया। 

मुझे लोगो की मदद कर एक आत्म-संतुष्टि मिली और स्वास्थ्य टीम ने सुक्रिया अदा किया और मैं फिर जमुई के लिए निकल गया । अगले दिन जिस बुजर्ग ने मुझे इंजेक्शन देने से रोका वो विद्यालय आये बोले, अमर जी मेरा कोविड का सर्टिफिकेट आ गया है, अगर आप को नहीं रोकते टीका लेने से, तो आप तो ले कर चले जाते और हमलोग फँसे रह जाते।

और मैं सिर्फ मुस्कुरा दिया।

Saturday, September 18, 2021

कोचिंग स्किल्स : स्मृति

सेशन की शुरुआत ग्राउंडिंग (Grounding) प्रक्रिया के साथ हुई। इसमें हमें खुद को आरामदायक स्थिति में रखते हुए, अपने पैरों के बारे में सोचना था।  

फिर होल्डिंग स्पेस फॉर वैल्यूज (holding space for values) की बात हुई। इसमें हमें रोमाना दीदी द्वारा एक सवाल दिया गया, जिसका जवाब हमें खूब सोच समझकर अपने पास लिखकर रखना था। हाँ, यदि कोई सदस्य शेयर करना चाहता था तो उसे शेयर करने की भी अनुमति थी। 

सवाल: आपके अब तक के जीवन में ऐसा कौन सा पल था, जब आपका दिल, दिमाग और सब कुछ एक ही तरफ अपने आप बह (flow) रहा था? 

इसके बाद कोचिंग स्किल्स के नीचे लिखे पॉइंटर्स पर छोटे-छोटे समूहों में बात हुई। 

Coaching Skills: 

  1. Explaining to Inquiry

  2. Listening to respond to listening to understand

  3. This is not working to this is happening

  4. Solving problem for to enabling others to solve

  5. I'm right & I disagree to understand where you are coming from

मुझे माइंडफुलनेस और कोचिंग स्किल्स से जुड़ा सेशन बहुत अच्छा लगा। सेशन के दौरान मैं खुद को रिफ्लेक्ट कर पायी और समझ पायी की मुझे कहाँ बेहतर करना है। 

मैं खुद को थोड़ा समय देने की कोशिश कर पायी हूँ। अब जब एडु-लीडर से बात करती हूँ तो ध्यान रखती हूँ कि मैंने कौन सी स्किल में अच्छा किया और कहाँ अभी काम करने की जरुरत है।

Friday, September 17, 2021

टास्क-ट्रैकर में क्या भरूँगा? : श्रवण

प्रत्येक सप्ताह शुक्रवार शाम को रोमाना के साथ सेशन हो रहा है। सितम्बर माह के अंतिम में एक बात जो उन्होंने सभी साथियों को स्वयं के साथ अनुभव करने को कही थी, वो थी “कुछ समय स्वयं के लिए निकालना और उस समय माइंडफुल  रहना”।

मैंने आज रोमाना की बात पर गौर किया और इसे करने की कोशिश की।

अमेज़न प्राइम पर जाकर एक संगीत ढूंढा, कान में लगाया और सोचा “शुरू करते हैं” संगीत अच्छा था, पर यह करना बहुत मुश्किल हो रहा था।

शुरुआत में शरीर मे बैचैनी सी महसूस हो रही थी, जैसे कि शरीर यह कह रहा हो...

भाई, यह क्या नया शौक पाल लिए?
बेचैनी थोड़ी कम हुई तो फिर मन जैसे मानने को तैयार ही न हो...
कभी सोचे “टास्क ट्रैकर में क्या भरूँगा?”
तो कभी “यह सब करने के बाद क्या करना है?”

किसी तरह मुश्किल से 10 मिनट गुजरे। खुद के साथ रहना शायद ज्यादा मुश्किल है, इसलिए हम इससे भागते रहते हैं।

मैंने तो यह तय किया है कि प्रतिदिन 20 मिनट खुद के साथ इस तरह समय बिताऊंगा।

देखूँ तो सही, आगे यह सफर कैसा जाता है? खुद से दोस्ती हो भी पाती है या ये अनबन बनी रहती है। अगर आपमें से भी किसी साथी ने कुछ कोशिश की हो तो साझा करें, हिम्मत मिलेगी।

-श्रवण कुमार

Thursday, September 16, 2021

कविता शीर्षक- तुम क्यों ठहर गए : आयूष

चलती सड़क पूछती है मुझसे कभी,

जब मैं ठहर कर उन्हें देख रहा होता हूँ 

तुम ठहर क्यों गए...??

मैं चुप रहता हूँ, बिना कुछ कहे

सड़कों पर तेज रफ्तार में दौड़ती

गाड़ियों को देखते हुए....

फिर कानों में एक के बाद एक

हॉर्न के बजने की आवाज सुनकर

सोचता हूँ कि इन सड़कों को

जरूर इन आवाजों की

इन मुसाफिरों की,

इन गाड़ियों की कभी आदत लग चुकी है।

वह चाहकर भी अपने लिए थोड़ी

सी भी शांति नहीं ढूंढ पाती

जो सड़कें शांति ढूंढने में सफल

रहती है उन्हें सुनसान करार दे दिया

जाता है,

इस प्रकार उनके अस्तित्व का कोई 

महत्व रह ही नहीं पाता

इसलिए उनका व्यस्त रहना ही उचित है।

पर मैं सड़कों से कहना चाहता हूं कि

मैं थक गया हूँ 

इसलिए नहीं रुका हूँ 

बल्कि थोड़ी देर के लिए 

ठहरा हूँ क्योंकि

दुगुने रफ्तार से और आगे

बहुत आगे निकल सकूँ 

जिंदगी के सफर पर

जहाँ की राह व्यस्त है

या यूँ कहें की व्यस्तम हैII 

- आयूष


Thursday, September 9, 2021

मैं आत्म निर्भर महसूस करती हूँ: काजल गोस्वामी

प्रिय दोस्तों मेरी i-सक्षम में फ़ेलोशिप का एक वर्ष पूरा होने वाला है। इस एक वर्ष के अन्दर मैंने बहुत सारा अनुभव किया जो मैं आप सभी के साथ साझा करने जा रही हूँ। जब मैं i-सक्षम से जुडी थी एक साल पहले तो हमें बताया गया था की हम लोगों को ढाई घंटे तक विधालय में पढ़ाना है। सप्ताह में एक बार ऑफिस आना है सेशन के लिए। तब यह पता नहीं था कि मैं बच्चों को कैसे पढ़ाउंगी और सप्ताह में एक बार कैसे समय निकाल कर ऑफिस आऊँगी।

लेकिन फिर भी मैने हाँ कहकर आगे बढ़ने का निर्णय लिया। जब पढ़ाना शुरू किया तो उस समय सभी विधालय बंद थे और मुझे बच्चों को पढ़ाने के लिए अपने ही घर में सेंटर बनाना पड़ा। आगे मैंने अपने ही गाँव में जाकर बच्चों के माता–पिता से बात की। मैंने उन्हें बताया कि i-सक्षम से जुड़कर मैं आपके बच्चों को नि:शुल्क पढ़ाउंगी। सभी अभिवावक राजी हो गए और मैंने पढ़ाना भी शुरू कर दिया। 

धीरे-धीरे बच्चे भी मेरे साथ खुलने शुरू हो गए और फिर हमे ऑफिस के तरफ से बताया गया कि अब मुझे भी विद्यालय जाकर बच्चों को पढ़ाना है।

मुझे यह सुन कर थोड़ी सी घबराहट हुई कि मैं सरकारी विद्यालय में सर और मैडम के साथ मलकर कैसे पढ़ाउंगी?

क्या वह मुझे विद्यालय में पढ़ाने की इजाजत देंगे?

अगर नहीं देंगे तो क्या होगा फिर?

कैसे पढ़ाउंगी मैं?

यह सब सोच मन ही मन घबरा रही थी । फिर i-सक्षम के तरफ से मुझे एक पत्र मिला, जिसमे हमें विद्यालय में पढ़ने की इजाजत थी। यह देख मुझे बहुत राहत मिली। 

जब मैंने विधालय जाना शुरू किया, तब मेरा जो विद्यालय था वह बिल्कुल अलग था। मेरा विधालय मेरे ही गाँव में एक पीपल के पेड़ के नीचे चलाया जाने वाला था, जिसमे न कोई कमरा था, न कोई पंखा था, न ब्लैकबोर्ड, न दरी, कुछ भी मूलभूत सुविधा नहीं थी।

क्या आप किसी पेड़ को विधालय कहेंगे?

नहीं ना। 

यह देखकर मुझे लगा कि इन परिस्थियों में शायद मैं नहीं पढ़ा सकती और मैं मन ही मन रोते हुए घर चली आई। फिर मैंने सोचा अगर मैं ही ऐसा सोचूंगी तो उन बच्चों का क्या होगा, जिनका भविष्य मैं अच्छे से संवार सकती हूँ।

फिर मैंने विद्यालय के प्रधानाध्यापक से बात की मैंने उनसे कहा – सर यहाँ तो कुछ भी नही है!

हम इन हालातों में बच्चों को शिक्षा कैसे देंगे? मैंने सर से कहा- सर क्या हम कोई कमरा या घर में विधालय नही चला सकते हैं? मैंने सर को सोचने पर मजबूर कर दिया यह बच्चों के शिक्षा के लिए सही नहीं है। 

मैंने पहला कदम विद्यालय में परिवर्तन को लेकर उठाया i-सक्षम के भाइयों और दीदियों ने मेरी बहुत मदद की, जिससे मुझे हिम्मत मिली। मेरे बोलने से यह परिवर्तन आया की सर ने बच्चों को पढ़ाने के लिए एक अच्छी जगह और रूम की व्यवस्था की, यह पहले से बहुत बेहतर था। अब मैं खुले आसमान में पेड़ के नीचे  नहीं एक पक्की छत के नीचे पढ़ा रही हूँ।

बच्चे भी पहले से बहुत ज्यादा खुश है, अब विद्यालय में पढ़कर।  मेरी इस समस्या को हल करने में विद्यालय के शिक्षकों ने भी मेरा पूरा सहयोग किया। अभिभावकों से बात करके अच्छे माहौल और जगह का चुनाव करके बच्चों को पढ़ाने के अच्छी जगह का प्रबंध किया और मुझे ऐसा लगता है कि मैं इस समस्या को हल करने में अपना शत प्रतिशत योगदान दे पाई । जिसके कारण बच्चे अच्छे माहौल में पढ़ पा रहे हैं। अगर मैं पहले ही हार मान जाती तो शायद आज के बच्चे खुले आसमान के नीचे, धूप, बारिश और हवा में पढ़ते। छोटे बच्चे तो पढ़ ही नहीं पाते। जब मैंने बच्चों को पढ़ाना शुरू किया, तब बच्चे विद्यालय नहीं आते थे। कोई मन लगाकर नही पढ़ता था। सर और मैडम बच्चों को ध्यान से नहीं पढ़ाते थे। जिससे सभी बच्चे पढ़ने लिखने में कमज़ोर थे।

फिर मैंने अपने स्तर के बच्चों को बेहतर करना शुरू कर दिया। जिसमें सभी बच्चों को विद्यालय जाने को कहा। घर-घर जाकर माता पिता से बात करके विद्यालय भेजने को कहा और उन्हें विश्वाश दिलाया कि आपके बच्चे को बहुत अच्छे से पढ़ाएंगे, आप उसे विधालय जरुर भेजिए। उन्होंने मेरी बात मानकर बच्चों को विधालय भेजना शुरू कर दिया। 

i-सक्षम की पूरी टीम ने बहुत सहयोग किया। लेकिन दो लोग ऐसे भी हैं जिन्होंने हमें बहुत ही ज्यादा सहयोग किया- स्मृति दीदी और बिपिन भैया। जब शुरू में जब मुझे कुछ नहीं आता था तो भैया मेरे सेंटर पर आकर बच्चों का असर टेस्ट लेते थे। i-सक्षम संस्था के बारे में मेरे परिवारजनों को बताते थे। मेरे सेंटर पर आने वाली समस्याओं में, उन्हें हल करने का रास्ता बताते थे। स्मृती दीदी ने मुझे बताया कि मैं अलग-अलग स्तर के बच्चों को, बिल्कुल आसानी से कैसे पढ़ा सकती हूँ?

मैं अपनी फ़ेलोशिप के दौरान बहुत खुश हूँ। मैं आत्मनिर्भर महसूस करती हूँ। अब मुझे लोगों के सामने बोलने में हिचकिचाहट नही होती। मेरे बच्चों बच्चों में बहुत परिवर्तन हुए है। बच्चे अब रोज पढ़ने आते हैं, साफ़-सफाई से आते हैं, खेलने के समय खेलते है और ध्यान लगाकर पढ़ते हैं। अभिभावक भी अब पहले से ज्यादा बच्चों पर ध्यान देते है। अभिभावक अब अपने बच्चे से पूछते भी हैं कि आज काजल दीदी ने क्या सिखाया? अभिभावक पढ़ाई को लेकर इतना नही सोचते थे। मेरे पढ़ाने के तरीके और मेहनत को देखकर शिक्षक अब मुझपर विश्वास करते हैं।

जो बच्चे कुछ नही जानते हैं वे काजल दीदी के पास जाइये। ऐसा शिक्षक कई बार बोलते हैं, जिसे सुनकर मुझे बहुत ख़ुशी मिलती है और खुद पर गर्व महसू होता है । उन लोगों की प्रशंसा से मेरा मनोबल बढ़ता है और बच्चों को बेहतर ढंग से पढ़ाने का इच्छा शक्ति जागती है। 

इन सब चीजों में मेरी माँ ने भी मेरा बहुत सहयोग किया उनका कहना था की तुम पढ़ाओ बच्चों को मैं घर संभालती हूँ। 

इन सब में मेरे परिवार और i-सक्षम का पूरा सहयोग रहा। मैं आज विद्यालय के परिवर्तनों को देखकर बहुत खुश हूँ और मुझे खुद पर विश्वास है की आगे आने वाले इस एक वर्ष में, मैं और भी बहुत सारे बेहतर बदलाव लाने का प्रयास करुँगी।


(काजल गोस्वामी, i-सक्षम फ़ेलोशिप की बैच-5 की एडु-लीडर हैं।)

Monday, September 6, 2021

कविता का शीर्षक "शिक्षक" : ममता

आदर्श का मिसाल बनकर, 

सबमें जो आत्मविश्वास भरता...

विद्यार्थियों के सपनों को जो,

संवारना ही अपना सपना बनाए...

           ऐसे हैं शिक्षक हमारे।


सदाबहार फूल सा खिलकर,

खिलता और खिखिलाता सबकों...

हम उम्र में हम उम्र से बनकर, 

बच्चों में जो बच्चा बन जाए...

          ऐसे हैं शिक्षक हमारे।


हमेशा जो अपनी मुट्ठी में, 

आकाश सारा दिखलाये...

दूसरों की जय से पहले,

खुद की जय करना सिखलाये...

         ऐसे हैं शिक्षक हमारे।


जो अपने शब्दों से,

बच्चों में भर दे ऊर्जा...

उनकी क्षमता से उन्हें मिलाये,

करके सीखो का पाठ पठाए...

जिसे देख खुद सिर नभ जाए,

          ऐसे हैं शिक्षक हमारे।



Friday, September 3, 2021

मैं (एडु-लीडर) अपने विधालय में एक शिक्षिका के रूप में थी: अलका

जब मैं पहले दिन विद्यालय पहुँची तो मैं थोड़ी सहमी हुई थी। लेकिन अन्दर ही अन्दर ख़ुशी की एक अलग ही भावना थी मेरे मन में, मानो कि खुशी के गुब्बारे फूट रहे होंl मैं अपनी भावनाओं को समझ नहीं पा रही थी कि मैं कैसा महसूस कर रही हूँ। शायद मुझे सिर्फ शब्दों में लिखना कठिन होगाl

मेरे शिक्षक वही थे, विद्यालय की रूप रेखा भी वही थी,  बस बदला हुआ था तो सिर्फ कुछ बच्चे जो मेरे साथी थे। वह अब उस विद्यालय में नहीं थे, क्योंकि वो भी मेरे साथ विद्यालय छोड़ चुकी थी। आज मैं विद्यालय पहुंची लेकिन एक विधार्थी के रूप में कम ...मैं एक शिक्षिका के रूप में।

मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि जिस विधालय से मैं पढ़कर बाहर निकली हूँ, मुझे उसी विधालय में पढ़ाने का मौका मिलेगा। मेरे सपने कुछ और थे, मुझे जिस तरह से प्रशिक्षण मिल रहा था और जिस तरह से पढ़ने का मौका मिल रहा था, उस तरह की शिक्षा शायद मेरी नियति में नहीं थी।

मैं नहीं चाहती थी कि मेरे बच्चे मेरे ही तरह सीखें, मैं चाहती थी वो सीखें तो सही, लेकिन सीखने का तरीका अलग हो। कुछ पल के लिए तो मेरे कदम रुक गए, मेरे मन में इस चीज का विचार चल रहा था कि मैं सर से किस तरह से बात करूंगी।

एक समय था जब सर विधालय पहुँचते थे, तो हम डर के मारे उकडू–मुकड़ू बैठ जाते थे। जब कुछ समझ में नहीं आता था, तो बहुत हिम्मत के बाद एक सवाल पूछा करते थे। जब दोबारा में भी समझ में नहीं आता था तो फिर पूछना मेरे बस की बात नहीं थी, और भी कोई बच्चा ऐसी हिम्मत नहीं करता था। आज उसी शिक्षक के पास विद्यालय में बदलाव को लेकर सवाल करना था। क्या मेरे लिए यह संभव था, यही सवाल मैं बार-बार खुद से पूछ रही थी। 

मैंने चुनौतियों को समझा और उसे पहचाना 

मेरे लिए पहली चुनौती  बच्चों में बदलाव लाना थी,  बच्चे समय पर विधालय नही आते थे। साफ़ सुथरे बनकर नहीं आते थे। बाल बिखरे हुए, नाख़ून बढे हुए, मानो जैसे दिनभर खेला हो और उसी तरह विधालय पहुँच गया हो। बच्चे आपस में बातचीत भी अलग ही ढंग से करते थे, मुझे बच्चों की यह व्यवहार थोड़ा अजीब लग रहा था। 

मैं बच्चों को बहुत दिनों तक लगातार समझाया कि वे साफ़ सुथरा होकर आएं, उसके नुक्सान के बारे में बताया। एक दिन हुआ यूँ की एक बच्चा बहुत गंदे कपड़े पहन कर विधालय आ गया। मैंने उसे तुरंत घर वापस भेज दिया की वह नहाकर आये। वह बच्चा घर गया और उधर से वह बच्चा अपनी मम्मी के साथ आया।

उसकी मम्मी ने हमें  कहा – दीदी आपने इसको वापस क्यों भेज दिया?

मैंने कहा- इसे नहाकर आने को कहा।

आप इसे नहला कर विद्यालय भेज दीजिये।

इस तरह से अगर बच्चा गन्दा रहेगा तो इसके स्वास्थ पर बुरा असर पड़ेगा। वह मेरी बात को समझी और उन्होंने अपने बच्चे को नहाकर फिर से विद्यालय भेजा। इससे हमारे कक्षा में मौजूद सभी बच्चों पर बहुत अच्छा असर पड़ा और वह अगले दिन से साफ –सुथरा होकर आने लगे। इसी तरह कक्षा में बहुत तरह का बदलाव हुआ बच्चों का व्यवहार में अंतर आया बोलने के तरीके में भी बहुत बदलाव आया। 

विधालय के शिक्षकों का रहा बहुत सहयोग 

विधालय में पढ़ाने से पहले मेरे मन में बहुत सारे सवाल आया करते थे कि क्या होगा? क्या नही होगा? लेकिन मुझे उम्मीद से ज्यादा मिल रहा था। वहाँ के शिक्षक हमें हर चीज में शामिल कर रहे थे, खाने के समय भी हमे बुलाते थे। वे कहते थे जैसे सब हैं वैसे आप भी है अलका, जो भी हो खुलकर बाते रखिये। हमें तो लग ही नही रहा था कि मैं उनकी विधार्थी हूँ। 

मैंने वहाँ एक और चीज देखी, जो हमें लगा उसपर बात करनी चाहिए। दीवार  खुरदरी  थी, जो देखने में अजीब लगती थी। मैंने मैम से बात की और उस दीवार को पेंट करवाने को बोला तो उन्होंने तुरंत इसे ठीक करवा दिया।

 “आज मैं खुद एक उदहारण थी। मेरे विधालय के शिक्षक मुझे बच्चों से परिचित कराकर उसे प्रेरित किया करते थे, कि देखो अलका इसी विद्यालय से पढ़ कर निकली है ये भी बहुत नटखट थी अगर तुमलोग भी अच्छे से पढोगे तो इस तरह सम्मान मिलेगा। यह सुन, मैं मन ही मन बहुत गौरवान्वित महसूस करती थी।”

शिक्षकों के साथ मिलकर हमने PTM बैठक की योजना बनाई कि अभिभावक विधालय में आकर पूछे की उनके बच्चे कैसे पढ़ रहे रहे हैं?

हम अभिभावकों के घर जाकर, उनसे मिले, उन्हें प्रेरित किया। जिसका अच्छा प्रभाव रहा जो अभिभावक बच्चे से खबर तक नहीं पूछते थे कि उनका बच्चा कैसे पढ़ रहा है, वह अब विधालय आकर पूछ रहे है। सभी बैठक में शामिल हो रहे थे। रोहित भैया (एक अभिभावक) उनके घर से 5 बच्चे पढ़ने आते थे। किसी भी दिन उनके बच्चे विधालय में अनुपस्थित रहते थे तो हमे कॉल करके पूछते थे। 

 कैसे, मैं अपने विधालय में बेहतर कर पाई? 

मैंने जिस तरह से वहाँ के  बच्चों को पढाया, मैं बहुत संतुष्ट हूँ। हमें अपने अनुसार लगता है कि मैं इसमें 90% अच्छा कर पाई जो 10% बचता है मैं यह बदलाव करना चाहती थी कि जो बच्चे अनुपस्थित है उन्हें भी कुछ  सिखा पाती।

कचरे का डिब्बा बना पाती, इसमें काफी हद तक सुधार हुआ है। लेकिन मुझे इसमें और कार्य करने की जरुरत थी। लेकिन मैं अभी उन्हें सहयोग कर रही हूँ, जो मेरी जगह नई एडु-लीडर आयी है। मुझे उम्मीद है की वह और भी बेहतर करेगी। 

 मेरे बडी धर्मवीर भईया ने मुझे बहुत सहयोग प्रदान किया 

मैं धर्मवीर भैया को बहुत-बहुत धन्यवाद देना चाहूंगी, जो मुझे अपनी छोटी बहन की तरह समझाते थे। मुझे हर कदम में सहयोग करते थे और करते हैं। कुछ भी पूछना होता था तो वह मुझे मना नहीं करते थे। हम उन्हें कभी  गुस्सा होते हुए,  देखे ही नहीं है भैया हमेशा हँस कर ही बात किया करते थे। अगर बच्चे की उपस्थिति, जब मैं समय पर नहीं बना पाती थी तो वह मुझे सहयोग करते थे। वे कभी परेशान नहीं हुए। उन्होंने मुझे अपने अनुभवों को लिखने के लिए भी प्रेरित किया, जिससे मैं धीरे-धीरे इसमें बेहतर होती गई। कुछ-कुछ सहयोग मुझे बबलू भैया ने भी किया है उनसे भी कुछ पूछना रहता तो वे हमेशा बताने के लिए तैयार रहते थे। 

जीविका दीदी ने कम्युनिटी में मेरी मदद की।

मेरे गांव की जीविका की CM राजकुमारी दीदी ने भी मेरी अच्छी-खासी मदद की। जब मुझे कहीं बैठक में जाना होता था तो वह पहले ही वहाँ सूचना दे देती थी कि अलका इस दिन बैठक करने आएगी आपलोग तैयार रहिएगा। कई बार वह खुद मेरे साथ बैठक में शामिल रही। जब मैं उन्हें किसी बैठक में बुलाती थी, वह जरुर समय निकाल कर पहुंचती थी। 

 देखते-देखते बहुत कुछ बदल गया 

जिस तरह से मैं वहाँ बच्चों को कविता करवाती थी, सेशन प्लान के अनुसार बच्चों को पढ़ाती थी, बाकी बच्चे भी झांकने आ जाते थे और कहते थे दीदी हम भी कविता करना चाहते है। सर और मैम को हमारे पढ़ाने का तरीका बहुत अच्छा लगा और उन्होंने भी  धीरे-धीरे इस तरह से पढ़ाना शुरु किया। एक दिन मैंने एक कविता (जो मैं कराती हूँ) मैम को सुनाते देखा तो  मुझे यह देख बहुत ख़ुशी मिली । 

मुझे जो इज्जत और प्यार वहाँ से मिल रहा था वह शायद ही कभी मैंने सोचा होगा। उस विधालय में मेरी एक छवि बन गई और बीते दो वर्षों में, मैं अपने सामाज में एक अलग पहचान बना पायी। पढ़ाते-पढ़ाते दो साल कैसे  बीत गए, पता ही नहीं चला। मैंने इन दो वर्षों में लोगों के साथ बहुत जुड़ाव बना पायी। पहले मैं और खुशबू उस विधालय में पढ़ाती थी। अब उस विधालय में बैच-7 की प्रेरणा दीदी और रीना दीदी पढ़ा रहीं है। हम अभी भी उनके साथ विधालय जाकर सहयोग कर रहे हैं। वे बेहतर ढंग से पढ़ाती है हमे उम्मीद है कि वो और भी बेहतर करेगी।